मधुशाला के बादल

मधुशाला के बादल ना बरसते है, ना गरजते है

बस चलते है, झलकते है

डुल्ते है बस किसी उत्सव के उपहास में

किसी की आँखो की प्यास में

किसी सुनने वाले की आस में

किसी शायर के अल्फ़ाज़ में

मधुशाला के बादल ना बरसते है, ना गरजते है

बस चलते है, झलकते है

रुकते है बस किसी शराबी की किवाड़ पे

किसी शेर की दहाड़ पे

किसी खिलती बहार पे

किसी आशिक़ की मज़ार पे

मधुशाला के बादल ना बरसते है, ना गरजते है

बस चलते है, झलकते है

खुलते है बस कुछ चन चेहरों पे

कुछ कूदती लहरो पे

कुछ लटों के पेहरों पे

कुछ आँखो के केहरों पे

मधुशाला के बादल ना बरसते है, ना गरजते है

बस चलते है, झलकते है

बोलते है बस किसी अपने की बेवफ़ाई पे

किसी की हराम की कमाई पे

किसी की फ़ीकी मिठाई पे

किसी की झूठी गवाही पे

मधुशाला के बादल ना बरसते है, ना गरजते है….

-मंच

One-Time
Monthly
Yearly

SHOW YOUR SUPPORT FOR THE WRITER

Make a monthly donation

Make a yearly donation

Choose an amount

5 ₹
15 ₹
100 ₹
5 ₹
15 ₹
100 ₹
5 ₹
15 ₹
100 ₹

Or enter a custom amount


Your contribution is appreciated.

Your contribution is appreciated.

Your contribution is appreciated.

DonateDonate monthlyDonate yearly

2 thoughts on “मधुशाला के बादल

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s